चीन का नया वायरस: महामारी का खतरा ?

 चीन का नया वायरस: कोविड जैसे कटिबद्ध विषाणु के खिलाफ अनुसंधान शुरू हो गया है; क्या यह चीन से एक और महामारी का खतरा है?



कोरोना वायरस ने सबसे पहले चीन के वुहान शहर में प्रकट हुआ था। इसके बारे में कई देशों ने आरोप लगाया है कि इसका निर्माण चीन ने किया है। इस पर विश्वभर के कई देशों ने अभी तक जांच की है। चीन से नए वायरस का प्रयोग करके क्या एक और महामारी का खतरा है, यह विचार किया जा रहा है।



तीन वर्ष पहले, कोरोना वायरस ने विश्वभर में हाहाकार मचाया था और लोगों ने उसे अभी भी भूला नहीं है। इस समय, कोरोना के नए वेरिएंट के बढ़ते संक्रमण के साथ ही, चीन से एक गंभीर सूचना सामने आई है। इस समय, कोरोना जैसे कटिबद्ध विषाणु का प्रयोग चीन में शुरू हुआ है, जिसकी जानकारी एक प्रमुख बायोरेक्टिव्ह वेबसाइट के प्रसिद्ध एक रिसर्च पेपर से मिली है।



चीनी सैन्य के डॉक्टरों ने कहा है कि उन्होंने पंगोलिन कोरोना वायरस नामक एक कोविड वेरिएंट तैयार किया है और उन्होंने इस विषाणु का प्रयोग उंदरांवर करने का दावा किया है। डॉक्टरों की टीम ने इस विषाणु का डोस उंदरांवर देने के बाद कुछ समय तक स्वस्थ उंदरां को एक ही पिंजऱे में रखा। सात-आठ दिनों के भीतर, इस नए विषाणु के संक्रमण से कुछ उंदरां को भी गंभीर परिणाम हुए हैं।



चीन से नए कोरोना वायरस का संबंध होने का आरोप अभी भी स्थिर प्रमाण पर नहीं है, लेकिन दुनियाभर के कई लोग इस पर संदेह कर रहे हैं।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

संपर्क फ़ॉर्म